सफलता उम्र नहीं देखती : सफलता उम्र नहीं देखती

नमस्कार !

BLOGS पे आपका स्वागत है!

दोस्तों, सफलता कभी भी उम्र देखकर नहीं आती है। सफलता सिर्फ उन लोगों को मिलती है जो अपने काम को पूरे जोश और जुनून के साथ नियमित रूप से Hard Work करते हैं। और एक नया और अच्छा आइडिया कभी भी जिंदगी बदल सकता है।

दोस्तों, बहुत से लोग 40-50 घंटे प्रति सप्ताह की अपनी नौकरी की जेल में इसलिए कैद रहते हैं क्यों की वह सोचते हैं कि उनकी उम्र ज्यादा हो चुकी है। उन्हें लगता है कि वह अब बाहर जाकर अपनी इच्छा का काम नहीं कर सकते हैं। खुद का Business Develop नहीं कर सकते हैं, इसलिए वह अपनी नौकरी करने को अपना जीवन मान लेते और नौकरी के अलावा कुछ भी नया Try नहीं करना चाहते हैं।

लेकिन सच्चाई यह है, कि Success उम्र की मोहताज नहीं होती बस उसके लिए हौसला और कुछ नया कर गुजरने का साहस और एक आइडिया चाहिए होता है। जिंदगी कभी भी बदल सकती है, जरा सोच के देखिए –

  • अमेरिका के पहले बिलेनियर हेनरी फोर्ड (Henry Ford) 40 की उम्र तक एक मामूली से मैकेनिक थे। (Founder of the Ford Motor Company)

  • दुनिया भर में मशहूर मैकडॉनल्ड्स की स्थापना करने से पहले 50 की उम्र तक रे क्रोक (Ray Kroc) कम आमदनी वाले सेल्समैन हुआ करते थे।

  • मशहूर अभिनेता बोमन ईरानी (Boman Irani) ने 44 साल की उम्र में एक्टिंग करना शुरू की। (बोमन ईरानी जिन्‍होंने 40 साल तक फोटोग्राफर और वेटर का काम किया है 44 साल की उम्र में मुन्‍नाभाई एमबीबीएस फिल्‍म में शानदार अभिनय करके छा गए।)

  • इंडियाबुल्स ग्रुप के फाउंडर और चेयरमैन समीर गहलोत सिर्फ 34 वर्ष की उम्र में करोड़पति बन गए, एक समय ऐसा भी था जब समीर ने दिल्ली के हौज खास बस टर्मिनल के पास टीन की छत वाले एक छोटे-से ऑफिस से काम शुरू किया था। वहां बस दो कंप्यूटर लगे थे, आज उनकी कंपनी की बिल्डिंग का शुमार मुंबई की आलीशान इमारतों में होता है।

  • मात्र 17 साल की उम्र में सुहास गोपीनाथ को ‘BBC’, ‘Washington times’, जैसी हस्तियों ने उन्हें “world youngest CEO” का खिताब दिया था। उसके बाद ’लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड’ मैं उनका नाम दुनिया की सबसे कम उम्र वाले CEO के रूप में दर्ज हुआ। भारतीय मीडिया ने उन्हें ‘बिल गेट्स ऑफ इंडिया’ का टाइटल दिया है।

  • कर्नल सैंडर्स केंटकी फ्राइड चिकन (KFC) स्टोर शुरू किया था, तो उनकी उम्र 60 से अधिक थी।

  • अमिताभ बच्चन आज 70 साल से ऊपर होने के बावजूद सबसे सक्रीय बॉलीवुड स्टार्स में से एक हैं।

  • हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने भी आजादी की लड़ाई 48 साल की उम्र में शुरू की थी और हमें आज़ादी दिलाई।

  • “आप उतने युवा है, जितना आप महसूस करते हैं। अगर आप अंदर के उत्साह को महसूस करना शुरू करेंगे, तो एक ऐसी जवानी महसूस करेंगे, जिसे कोई भी आपसे छीन नहीं सकता”।

ऐसे तमाम उदहारण हैं जहाँ लोगों ने साबित किया है कि अगर कुछ कर गुजरने का हौंसला हो, तो उम्र और चुनौतियाँ कुछ मायने नहीं रखती है।

दोस्तों इन सब बातों को पढ़ने के बाद यह बात समझ में आती है कि किसी कैरियर को शुरू करने या बदलने कीसबसे अच्छी उम्रक्या होती है?वही, जो इस वक्त आपकी उम्र है। www.satwinder-singh.com

15 views0 comments